छेग्री पालनमसे बार्षिक चार लाख आम्दानी लेटि विपना चौधरी

विपना चौधरी गृहणी हुइटी । उहाँ सन्झ्या विन्ह्या भन्सा कर्ना व लर्कन स्कूल पठैना व लिह जैनाम डिन विटिन । तर, आजकाल उहाँके दैनिकी फेर्गिल बाटीन । सन्झ्या विन्ह्या भन्सा कर्ना, लर्कन स्कूल पठैना व लिह जैनासंगसंग व्यवसायीक रुपम बोयर (उन्नत) जातके छेग्री (बाख्रा) फे पालन कर्टि आइल बाटी ।

घोराही उपमहानगरपालिका वडा नं. १७, गुलरियाके विपना चौधरी बोयर जातके छेग्रीमसे मजा आम्दानी लेटि आइलबाटी । वितल दुइवर्षठेसे बिपना बर्षेनी छेग्री बेच्खक बार्षिक चार लाखसे ढ्यार आम्दानी लेटि अइलक् बटोइली । आघपाछ घरखर्च चलैना कर्रा पर विपना कलि,–‘छेग्री पालभिरलसे घर खर्च चलैना सजिलो हुइल बा ।’

डिन्भर फँवस्से बैठलसे एक दुइठो छेग्री पल्लसे महिन डिन कट्ना त सजिलो हुइ कैख मै आपन बुह्रर्वा (श्रीमान) से सल्लाह कर्नु उहाँ कलि,–‘ पाछ डुनुजहनके सल्लाह अनुसार बोयर (उन्नत) जातके छेग्री पल्ना सल्लाह हुइल ।’ तर, बोयर जातके छेग्री बहुट महङ पर्ना हुइलक् ओर्से सुरुम दुइठोकेल किन्ली । सुस्ट सुस्ट बह्रैटी गैली, विपना कलि,–‘आब चाहि व्यवसायिक रुपम चिनारी पशुपालन फर्म बनाख छेग्री पल्टी आइलबाटी ।’

करिब साढे चार लाख लगानी कैख आब एक्ठो बोका सहित १२ ठो छेग्री पल्टि अइलक उहाँ जनैली । स्थानीय छेग्रीमसे बोयर जातके छेग्रीम बहुट मजा आम्दानी हुइना कर्लक उहाँ बटोइली । ‘जिटिहम एक हजार दुइसय रुप्या प्रति किलोके दरले छेग्री बेच्टी आइल बाटी उहाँकलिन,–‘एक्ठो छउना (बच्चा) २५ हजारठेसे ३५ हजारसम बेच्टी आइल बाटी ।’ ओस्टक बोयर बोक्या (बोका) मसे मासिक ३० हजारसम आम्दानी हुइना कर्लक उहाँके कहाइ बाटिन ।

ठ¥वा (श्रीमान) महेन्द्र चौधरी भेख्नरीम काम कर्ना हुइलक् ओर्से फे विपनाह छेग्री पल्नाम ठप सहज हुइल बाटीन । ‘छेग्री बेरामी पर्टीकी ठ¥वा रेखडेख कैडना, वि¥वाबारी कैडेना कर्ठ, विपना कली,–‘घरम डक्ट्वार हुइलकमार फे महिन छेग्री पल्ना सजिलो हुइल बा ।’ डाना पानी, घाँस डर्नाम फे ठ¥वा सहयोग कर्ठ विपना कली, ज्याहोस डुनुजहनके मेहनतले हमार छेग्री पालन फस्टाइल बा ।’ आबसम मजा हुइल । ठ¥वाक आम्दानीले घर बनैलक ऋण टिर्ठी, म्वार कमाइले घर खर्च चलैल बाटी । ज्याहोस यी पेशाले हम्र खुशी बाटी विपना कलि ।

अग्रासन खबर

प्रतिक्रिया दिनुहोस्

संबन्धित समाचार

भर्खरै प्रकासित